google.com, pub-9761875631229084, DIRECT, f08c47fec0942fa0
Breakingझारखंडधनबाद

दुखद : व्यवस्था चौपट, एक हजार चापाकल खराब, इस गर्मी कैसे बुझेगी प्यास ?

 

धनबाद : कोयलांचल के तापमान में लगातार बढ़ोतरी के साथ गर्मी की दस्तक शुरू हो गई है. शहर समेत पूरे जिले का जलस्तर तेजी से नीचे जा रहा है. तालाब-कुएं सूखने के कगार पर हैं. एक हजार से अधिक चापाकल खराब पड़े हैं.
वहीं दूसरी ओर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की मनमानी की वजह से टेंडर प्रक्रिया अटकी पड़ी है, जिससे अब तक खराब पड़े चापाकलों की मरम्मत शुरू नहीं हुई है. नगर निगम ने पेयजल एवं स्वच्छता विभाग से चापाकलों की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है. जिसमें बताया गया था कि नगर निगम क्षेत्र में कुल करीब 4500 चापाकल हैं, जिनमें से 1000 से अधिक खराब पड़े हुए हैं.
पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सूत्र बताते हैं कि 1000 खराब चापाकलों में से लगभग आधे पूरी तरह डैमेज हो चुके हैं. इनका पाइप सड़ चुका है. संसाधन के अभाव में विभाग साधारण मरम्मत कर दे रहा है और कुछ दिनों में ही ये फिर से खराब हो जा रहे हैं. लंबे समय से आपूर्ति प्रक्रिया पूरी नहीं होने की वजह से नोटर राइजर जैसे महत्वपूर्ण सामान नहीं हैं. 24 फरवरी को होने वाली टेंडर प्रक्रिया के बाद इन बाकी बचे चापाकलों और उस क्षेत्र के लोगों की किस्मत का फैसला होगा.
ज्ञात हो कि वर्ष 2022 के मॉनसून सीजन में धनबाद जिले में सामान्य से 332.8 मिलीमीटर कम बारिश हुई है. जलाशयों का जलस्तर अभी से ही नीचे जाने लगा है. यही हाल अंडरग्राउंड वाटर टेवल का भी है. यदि इसी तरह जलस्तर नीचे जाता रहा तो मई-जून तक जिलावासियों को पानी की भारी किल्लत सहनी पड़ेगी.
मैथन डैम से धनबाद शहर में अभी प्रतिदिन 50 से 55 मिलियन लीटर (एमएलडी) पानी की प्रतिदिन सप्लाई हो रही है. इसमें आधा पानी शहर के बड़ी सरकारी इकाइयों रेलवे, आईआईटी, सिंफर आदि को सप्लाई किया जा रहा है. ठंड के मौसम में इतने पानी से काम चल जा रहा था. लेकिन गर्मी के दिनों में जब पानी की मांग बढ़ेगी, तब पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की असली परीक्षा शुरू होगी.
पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, धनबाद के अधीक्षण अभियंता रियाज़ अहमद से इस संबंध में बात की गई. उन्होंने कहा कि गर्मी में शहरवासियों को पानी की कमी न हो इसके लिए विभाग अभी से तैयारी कर रहा है. इस महीने के अंत से चापाकलों की मरम्मत का काम शुरू हो जाएगा.

Related Articles

Back to top button
Close